सुशांत सिंह राजपूत ने क्यों की खुदकुशी ? जिंदगी इतनी सस्ती तो नहीं ?

सुशांत सिंह राजपूत की खुदकुशी की खबर सुनने के बाद हर कोई सदमें में है, हर किसी के दिल-दिमाग में एक ही सवाल उठ रहा है, की ऐसा क्या हो गया था की उन्होंने इतना बड़ा कदम उठा लिया ??????

A Poem on Suicide of Sushant Singh Rajpoot

खुदकुशी – Sushant Singh Rajput ????

मौत इतनी भी क्या प्यारी है
लोग शोहरत छोड़ मर रहे है
जिंदगी इतनी भी क्या सस्ती है
अमीर इंसान भी जर रहे है

कीमत ख़त्म हो रही जिंदगी की
लोग दिल से कमजोर हो रहे
झुझना भूल रहे है लोग मुसीबतो से
ख़ुदकुशी मे पुरजोर हो रहे

जो लड़ नहीं सकता,
वो टिकेगा कैसे
जो चल नहीं सकता
वो दौड़ेगा कैसे
जो जिंदगी को जिंदगी ना समझें
वो जियेगा कैसे
जो खुद को खुदा ना माने
वो हंसेगा कैसे
जिसके सब रस्ते मौत पर खत्म हो
वो नये रस्ते चुनेगा कैसे

शोहरत अच्छी थी
इंसान भी अच्छा था
काबिलियत अच्छी थी
इंसान भी सच्चा था

किस बात की कमजोरी थी
वो तो खुदा जाने
पर मरना नहीं था
ये बात हर इंसान माने
लड़ो लड़ाई, यूँ झुको मत
सबक दो कमजोरी को
यूँ रुको मत

माँ की ममता का ख्याल करना चाहिए था
पिता के होंसलों का ख्याल करना चाहिए था..
जाने से पहले सोचता तू क्या है
मरने से पहले खुद से ये सवाल करना चाहिए था….

रचनाकार : सोनू सुथार
खिनानियाँ – नोहर (राजस्थान)

Last Picture / Photo of Sushant Singh Rajput

https://twitter.com/SushantSinghR_/status/1272138877629677569

अन्य बेहतरीन हिन्दी कविताएँ

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है।

Leave a Comment