5 दिसंबर भारत बंद: देश की बेटी के लिए देश बंद.

हैदराबाद में हुए गैंग रेप हत्याकांड के बाद देशवासियों ने यह निर्णय ले लिया है कि देश की बेटी को न्याय दिलाने के लिए 5 दिसंबर को भारत बंद करता होगा

5 दिसंबर भारत बंद: देश की बेटी के लिए देश बंद.

हैदराबाद पर हुए प्रियंका रेडी गैंग रेप हत्याकांड के बाद देश में आक्रोश फैल गया है और देशवासियों ने यह निर्णय ले लिया है कि 5 दिसंबर को भारत बंद किया जाएगा 5 दिसंबर के दिन पूरे भारत पर आंदोलन चलाया जाएगा और एक देश की बेटी को न्याय दिलाया जाएगा साथ ही उन अपराधियों को खुलेआम फांसी दिलाने की मांग भी की जाएगी

यह भी पढे़ :- प्रियंका रेड्डी हत्याकांड पर RSS प्रमुख मोहन भागवत का बड़ा बयान.

सोशल मीडिया पर यह मैसेज हर मोबाइल पर फैल रहा है।

  • 5 दिसम्बर भारत बंद। बहुत कर लिए तुम लोगो ने अपने स्वार्थ के लिए भारत बंद किया
  • अब अपनी बहन बेटी के लिए भारत बंद का समर्थन करो। सरकार को जगाओ,
  • देश की बेटी को न्याय दिलाओ,दरिन्दों को खुलेआम फाँसी दिलाओ।
  • कभी भीम सेना तो कभी शिव सेना, तो कभी बजरंग सेना ने देश को बंद किया
  • अगर आपके घर मे बहन, बेटी तो अपनि बेटियों के लिए *5 दिसम्बर को भारत बंद* करो।
  • *पूछ रही हर नारी ह, क्या देश में लड़की पैदा होना गुनाह ह??*
  • अब रच तो एक ऐसा इतिहास की आगे हमे कभी नही लिखना पड़े
  • Justice for…….. आज भी आप मोन हो तो कल आपके घर की नारी की बारी है।
  • जब आतंकवादियों के लिए आदि रात को कोर्ट खुल सकता ह ,
  • राम मंदिर के लिए 40 -45 दिनों तक रोज सुनवाई चल सकती है।
  • तो क्या देश मे *नारी रक्षा के लिए बिना सुनवाई फाँसी का* कोई कानून नही बन सकता।
    क्या करोगे राम मंदिर बना के

*JusticeforPriyanka*

जब आंगन में खेल रही सीता भी सुरक्षित नही।
में भारत बंद का समर्थन करता हु क्योंकि मेरे घर मे भी बहन बेटी है। मेने भी एक स्त्री की कोख से जन्म लिया है। अगर आपके घर मे भी बहन बेटी है। तो करो भारत बंद 5 दिसम्बर को देश की बेटी के लिए देश बन्द
अतः आप से निवेदन ह की इस मैसेज को पूरे भारत मे फेला दो और इस dp को 5 दिसम्बर तक अपनी dp व स्टेटस ओर लगाये।

यह मैसेज पूरे भारत में सोशल मीडिया पर बहुत ही तेजी से फैल रहा है। और इससे सीधा पता लगाया जा सकता है। कि 5 दिसंबर को भारत बंद जरूर होगा। क्योंकि एक बेटी को न्याय दिलाने के लिए भारत बंद करना पर्याप्त नहीं है। और उन दलीलों को खुलेआम फांसी की सजा होनी चाहिए।