Bhuma Akhila Priya को 14 दिन का रिमांड

0
Bhuma Akhila Priya
भूमा अखिला प्रिया को 14 दिन का रिमांड

Bhuma Akhila Priya: टीडीपी नेता भूमा अखिला प्रिया को बोइनपल्ली ब्रदर्स अपहरण मामले में 14 दिन की न्यायिक हिरासत में लिया गया है। न्यायिक हिरासत के दौरान उन्हें चंचलगुड़ा जेल में रखा जाएगा। पूर्व मंत्री और टीडीपी नेता भूमा अखिल प्रिया को बोइनपल्ली अपहरण मामले में 14 दिन के रिमांड पर लिया गया है। स्मरण रहे कि पुलिस ने अखिला प्रिया को गिरफ्तार कर बुधवार शाम को सिकंदराबाद जज क्वार्टर जज के सामने पेश किया गया। जहाँ मजिस्ट्रेट ने 20 जनवरी तक उन्हें न्यायिक हिरासत में रिमांड पर भेज दिया है। न्यायाधीश के आदेशों के अनुसार पुलिस ने अखिला प्रिया को चंचलगुड़ा जेल में रखा है। कोर्ट कल अखिल प्रिया की जमानत याचिका पर सुनवाई करेगा।

किडनैपिंग केस Bhuma Akhila Priya पति भार्गवराम परेड में हैं उसके भाई चंद्र बोस को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। ए-1 इस अपहरण मामले में लवी सुब्बा रेड्डी है ए-2 के रूप में भूमा अखिल प्रिया हैदराबाद के सीपी अंजनी कुमार ने बताया कि ए-3 के रूप में भार्गव के नाम एफआईआर में शामिल किए गए हैं।

ए-1, एवी सुब्बा रेड्डी को हैदराबाद टास्क फोर्स पुलिस ने बुधवार शाम को गिरफ्तार कर लिया। उन्होंने बताया कि अपहरण के चक्कर में उसका कोई संबंध नहीं है। वह 1 आरोपी नहीं है यह बात एफआईआर में नाम पुलिस ने बताई थी। ट्रायल में तथ्य सामने आएंगे। प्रवीण राव ने कहा कि उन्हें अखिल प्रिया का अंदाज पसंद नहीं है।

अदालत ने तेलुगु देशम पार्टी के नेता और पूर्व मंत्री भूमा अखिल प्रिया को 14 दिन की रिमांड पर भेज दिया है। अदालत ने हैदराबाद के हाफिजपेट में एक जमीन के मामले में मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव के रिश्तेदारों को अगवा करने के मामले में उनके खिलाफ कार्यवाही हुई है। फिलहाल उन्हें चंचलगुड़ा जेल में रखा गया है। बता दें कि इससे पहले उसका इलाज गांधी अस्पताल में हो चुका है। बाद में उन्हें कोर्ट में पेश किया गया। जज ने दो सप्ताह का रिमांड लगाया।

वह इस महीने की 20 तारीख तक राजेंद्र नगर में रहेंगी। पुलिस ने ए-1 और ए-2 आरोपियों को गिरफ्तार कर 3 आरोपियों और अखिला भरता भार्गव राम की तलाश में अभियान चलाया। पुलिस के अभियान की जानकारी होते ही भार्गव राम भूमिगत हो गए। पुलिस तलाशी के लिए सीसी कैमरे के फुटेज खंगालती नजर आ रही है। कल रात कुछ ठगों ने केसीआर के रिश्तेदारों प्रवीण राव, सुनील राव और नवीन राव का अपहरण कर लिया। शाम साढ़े सात बजे वह आईटी अधिकारियों के रूप में अपने घर के अंदर चला गया।

एपी के पूर्व मंत्री Bhuma Akhila Priya के पति भार्गव रेड्डी का जिक्र किया गया है। इसके बाद तीनों को छोड़ने के लिए मजबूर किया गया। नॉर्थ जोन डीसीपी कलमेश्वर और सेंट्रल जोन डीसीपी वहां पहुंचे। डायमंड प्वाइंट और रानीगंज से गुजरने वाले दो संदिग्ध वाहनों के दृश्यों का पता सीसी कैमरों से चला। उधर, अपहर्ताओं ने नरसिंगी के दौरान पीड़ितों को छोड़ दिया। पुलिस ने नागापट्टनम के पास अपहर्ताओं को गिरफ्तार किया उनसे पूछताछ की जा रही है।

इस मामले में भूमा अखिल प्रिया को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। इसी तरह पुलिस ने भूमा नगीरेड्डी में विश्वास करने वाले लवी सुब्बा रेड्डी को गिरफ्तार कर लिया। एबी सुब्बा रेड्डी को A1, भूमा अखिल प्रिया A2 और भोमा अखिलप्रिया के पति भार्गव A3 के रूप में बुक किया गया था। हालांकि सुब्बा रेड्डी ने कहा कि उनका इस घटना से कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने आरोप लगाया कि बीते दिनों भूमा अखिल प्रिया सुपारी को मारने की योजना बनाई थी। सुब्बा रेड्डी का नाम राजनीतिक हलकों में चर्चा का विषय बन गया है।

उधर पीड़ितों के परिजनों का कहना है कि हाफिजपेट उर्फ जमीन विवाद में 50 साल पुराने जमीन विवाद की जिम्मेदारी जिम्मेदार है। जमीन में कई पार्टनर हैं और जमीन पर सुप्रीम कोर्ट की तमाम मंजूरियां हैं। भूमा परिवार और उनके पार्टनर के बीच मतभेद की वजह से अपहरण की नौबत आ गई है। पृथ्वी ग्रुप कई बार कहता है कि वे अपने पार्टनर के साथ फैसला करें। जमीन विवाद से उनका कोई संबंध नहीं है। दो साल पहले उनसे संपर्क किया गया और सभी दस्तावेज दिखाए गए। हालांकि पृथ्वी परिवार इस विवाद में वापस आ गया है।

इस पोस्ट को पढ़ने के लिए धन्यवाद:

यहाँ और अधिक लेख पढ़ें:

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here