आगामी 29 जनवरी से शुरू होगा बजट सत्र 2021

बजट सत्र 2021
बजट

बजट सत्र 2021: आपकी जानकारी के लिए बता दें कि देश का आगामी बजट दो चरणों में होगा और 8 अप्रैल तक चलने की संभावना है, बजट सत्र 2021 का प्रथम चरण आगामी 29 से जनवरी 2021 से प्रारंभ होने की संभावना है एवं 15 फरवरी तक यह चल सकता है, वही बात अगर दूसरे चढ़ेगी की जाए तो आपको बता दें कि यह चरण 8 मार्च से शुरू होकर 8 अप्रैल तक चल सकता है, देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 29 जनवरी की सुबह 11:00 बजे संसद के दोनों सदनों लोकसभा और राज्यसभा की संयुक्त बैठक को संबोधित करेंगे वहीं केंद्रीय बजट 1 फरवरी को सुबह 11:00 बजे पेश किया जाएगा|

बताते चलें कि संसद का बजट सत्र 2021, 29 जनवरी से प्रारंभ होगा और 1 फरवरी को संसद में वित्तीय वर्ष 2021 22 का आम बजट पेश किया जाएगा, उक्त जानकारी लोकसभा सचिवालय द्वारा दी गई है, जिसके लिए राजनीतिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने भी सिफारिश की थी|

कोरोना की वजह से नहीं हुआ था शीतकालीन सत्र

मिली जानकारी के मुताबिक संसद के बजट सत्र के दौरान कोरोनावायरस संबंधित सभी दिशानिर्देशों का पूर्णतया पालन किया जाएगा, इसके साथ ही संसद की स्थाई समिति को अलग-अलग मंत्रालयों/ विभागों की अनुदान की मांगों पर विचार करने मैं आसानी हो इसके लिए 15 फरवरी को सत्र का पहला चरण स्थगित करने का निर्णय लिया गया है, इसके बाद 8 मार्च से दूसरे चरण की बैठक प्रारंभ होने की संभावना है|

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि कोरोनावायरस के कारण देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था चरमरा गई थी। बढी संख्या में लोगों का रोजगार छिन गया था, बहुतों की जिंदगिया बरबाद हो गई, आज भी बहुत से लोग जो नौकरी करते थे दर दर की ठोकरें खा रहे हैं। बहुतों के व्यापार बिलकुल नष्ट हो गए। कुछ की ट्रेन के नीचे आकर मौत हुई तो कुछ की रास्ते भटकते और भूंख के कारण हुई।

इन सब का सिर्फ एक ही कारण था और कारण था कोरोना। जिसने देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया था। नेताओं की भी दिन रात की नींद उड गई थी। जिसके कारण इस बार देश का संसद का शीतकालीन सत्र भी नहीं बुलाया गया था, जिसके चलते केंद्र सरकार ने कहा था कि करो ना मामा जी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए इस बार संसद के शीतकालीन सत्र का आयोजन नहीं किया जाएगा|

जिसके बाद विपक्ष ने जमकर केंद्र की भाजपा सरकार पर निशाना साधा था कि केंद्र की भाजपा सरकार किसानों के विरोध प्रदर्शन और अन्य मुद्दों पर चर्चा करने से बच रही है, जिसके वजह से भाजपा सरकार शीतकालीन सत्र का आयोजन नहीं कर रही है| इसी तरह के अलग अलग आरोप भाजपा सरकार पर लगते रहे, लेकिन भाजपा इन सब पर चुप्पी सादे रही।

ये भी पढें: कोरोना वैक्सीन से बांझपन को लेकर लोगों में फैली अफवाह, स्वास्थ्य मंत्री ने दूर किया भ्रम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here