DP Boss: डीपी बॉस मटका, जानिए कैसे एक खेल पलट सकता है आपकी किस्मत

0
140
DP Boss
DP boss Satta Matka | DP Boss Result | DP Boss Satta Matka 143

DP Boss Satta Matka: कुछ लोग इस खेल को किस्मत की बाज़ी मानते है, तो कुछ लोगो की नज़रों में यह खेल अंकों की सटीक गणना है. कुछ लोग ऐसे भी हैं जो मानते है, कि यह खेल किस्मत और अंको की गणित का मिलाजुला रूप है. इस खेल के प्रति सबका नज़रिया अलग हो सकता है, परन्तु सब इस बात से सब सहमति रखते हैं कि सट्टा मटका के नाम से मशहूर इस खेल से, व्यक्ति की किस्मत पल भर में पलट सकती है.

आज से करीब 59 वर्ष पहले सन 1961 में रतन खत्री ने सट्टा मटका के नाम से जाने वाले इस खेल की शुरुआत की थी. तब से लेकर अब तक इस खेल के स्वरूप बदले है लेकिन लोकप्रियता में कोई बदलाव नहीं है आया है. सट्टे का यह खेल इंटरनेट के आगमन से पहले ऑफ़लाइन खेला जाता था और अब यह ऑनलाइन भी उपलब्ध हो गया है. DP Boss Satta King ऑनलाइन सट्टा मटका की सर्वाधिक लोकप्रिय वेबसाइट है. इस खेल की लोकप्रियता 80 और 90 के दशक में अपने चरम पर रही है। इस खेल की लोकप्रियता का एक मुख्य कारण यह भी रहा है, कि यह खेल अपने खिलाड़ियों को मनोरंजन के साथ साथ रुपये कमाने का भी मौका देता है.

DP Boss Satta Matka
INDIA – 2020/04/04: In this photo illustration Five hundred Rupee notes are seen on display. (Photo Illustration by Avishek Das/SOPA Images/LightRocket via Getty Images)

ऑनलाइन मटका खेल के लिए DP BOSS एक शानदार, विश्वसनीय और अग्रणी वेबसाइट है. इसपर बिना किसी बेईमानी के नतीजे जारी किए जाते हैं. हालाँकि, देश मे मटका खेल कानूनी रूप से अवैध है, यह वेबसाइट देश की सबसे स्मार्ट वेबसाइटों में से एक है और इसके ज़रिये आप सट्टे के नतीजे बिना बाधा जल्द से जल्द जान सकेंगे. इस एक वेबसाइट के ज़रिए आप अनेक मटका खेलों में भाग ले सकते हैं. DP Boss आपको एक साथ मटका ऑनलाइन, मटका चार्ट, मार्केट, पैनल चार्ट, फिक्स मटका जोड़ी, बॉस मटका, इंडियन मटका, कल्याण रिजल्ट, कल्याण मटका आदि की जानकारी प्रदान करता है. साथ ही, इनमें भाग लेने के लिए सुविधा भी प्रदान करता है.

सट्टा मटका खेलों के कई प्रकार होते हैं। इनमे सिंगल, जोड़ी और पट्टी प्रमुख हैं। इस खेल को हाफ संगम और फुल संगम के रूप में भी खेला जाता है। मटका खेल में आपको दिए गए अंको में से एक या अधिक अंको पर अपना दांव लगाना होता है। अधिकतर यह नंबर 00 से 99 के बीच होते हैं। आमतौर पर लोग अपने जीतने की संभावना बढ़ाने के लिए 4 से 5 नम्बरों पर अपना दांव लगाते हैं। यह रणनीति काफी सफल भी रहती है. दांव लगाने के बाद नतीजा जानने के लिए, आप DP Boss की वेबसाइट पर जा सकते हैं.

DP Boss द्वारा आयोजित सट्टा मटका खेलों की लिस्ट इस प्रकार है 

 

MILAN MORNING

SRIDEVI

KALYAN MORNING

MADHURI

TIME BAZAR

MAIN BAZAR DAY

MILAN DAY

PADMAVATI

TIME BAZAR DAY

TARA MUMBAI DAY

TARA MUMBAI NIGHT

SRIDEVI NIGHT

NIGHT TIME BAZAR

MADHURI NIGHT

KALYAN

KALYAN NIGHT

MUMBAI ROYAL DAY

MAIN BAZAR

KUBER DAY

RAJDHANI NIGHT

MAIN MUMBAI DAY

MATKA KING DAY

KALYAN SUPER PRIME

MADHUR MORNING

RAJASHREE NIGHT

SUPER MILAN NIGHT

MAIN MUMBAI NIGHT

SRIDEVI (Night)

BOMBAY BAZAR DAY

SRI STAR NIGHT

 

पचास के दशक में सट्टा मटका को आंकड़ा जुगाड़ के नाम से भी जाना जाता था. नम्बरों पर लागये जाने वाले दांव के कारण इसे यह नाम दिया गया था। हालांकि वक़्त के साथ बदलाव होते रहे और आंकड़ा जुगाड़ खेल का नाम satta king हो गया. यह खेल तब भी लोगों की किस्मतें पलट देता था और आज भी अपनी इसी खासियत के कारण यह लोगों की बीच अत्यधिक मशहूर है. जो लोग कम समय में जल्द से जल्द और अधिक से अधिक पैसा कमाने की ख्वाहिश रखते है, वह सट्टा किंग का सहारा लेते है। इस खेल में पैसे के साथ साथ जोखिम भी उतना ही है.

Kalyan Satta Matka Result: कल्याण सट्टा मटका परिणाम, जानिए कौनसा नंबर बना लकी

सट्टा मटका का शुरुआती स्वरूप आज जैसा नहीं था। इस खेल की प्रेरणा बॉम्बे में कपास के दामों पर लगने वाले पैसों की शर्तों से ली गयी है. 1950 के आसपास बॉम्बे में लोग कपास के बाजार में कपास के खुलने और बंद होने के दामों पर रुपयों की शर्त लगाते थे. बॉम्बे कॉटन एक्सचेंज में, यह गतिविधि न्यूयॉर्क कॉटन एक्सचेंज से आई थी. जब 1961 में न्यूयॉर्क कॉटन एक्सचेंज ने इस गतिविधि पर प्रतिबंध लगा दिया, तो सट्टेबाजों ने इस गतिविधि को जारी रखने के लिए कागज़ की पर्चियों का इस्तेमाल करना शुरु कर दिया जिससे की इस खेल को ज़िंदा रखा जा सके. शुरुआत में 0-9 नंबर की पर्चियां एक डब्बे में डाल दी जाती थी. जिसके बाद उसमें से एक पर्ची निकली जाती थी। जो व्यक्ति निकाली हुई पर्ची पर दांव लगाते थे उन्हें विजेता घोषित कर दिया जाता था.

सट्टा मटका का रूप अब काफी बदल चुका है. अब ऑफ़लाइन सट्टा मटका में एक पैक में से 3 नंबर निकाले जाते हैं और उसके बाद विजेता घोषित किया जाता है। 80 और 90 के दशक में सट्टा मटका का कारोबार 50 करोड़ रुपये प्रति महीने के स्तर पर पहुंच गया था। उस समय यह खेल अपने चरम पर था। तेज़ी से प्रगति करते सट्टा मटका के खेल के ऑनलाइन संस्करण में, अब वेबसाइट के ज़रिए ही एक नम्बर निकाल लिया जाता है.

सट्टा खेलने वाले खिलाड़ियों के बीच ऑनलाइन सट्टा बेहद मशहूर है। DP Boss जैसी वेबसाइट सट्टा मटका के खेल की विश्वसनीय वेबसाइटों में से एक है। आंकड़ो के इस खेल को बहुत ही सावधानी और संवेदनशील होकर खेलने की ज़रूरत है। यह खेल मनोरजंन के अच्छे साधन तो हैं, परन्तु इनकी लत लगने पर यह आपके निजी जीवन पर प्रभाव डाल सकते हैं। 

सट्टेबाजी के खेल बहुत ही जोखिम भरे होते हैं। इस खेल के ज़रिए व्यक्ति पल में मालामाल हो सकता है और पल में ही अपना सबकुछ गंवा भी सकता है। सट्टेबाजी के खेल 13 राज्यों को छोड़कर पूरे देश मे अवैध है और कानूनन जुर्म की श्रेणी में आते हैं। जिन राज्यो में सट्टेबाजी प्रतिबंधित नहीं है वहाँ भी राज्य सरकार के अलावा सट्टेबाजी का आयोजन कोई अन्य संस्था या व्यक्ति नहीं कर सकता है। ऐसी सट्टेबाजी में हिस्सा लेना या आयोजित करना कानूनन अपराध है।

Disawar Satta King Result: सुबह 5:15 बजे निकला रिजल्ट, जानिए कौनसा नंबर बना लकी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here