कोरोना वैक्सीन से बांझपन को लेकर लोगों में फैली अफवाह, स्वास्थ्य मंत्री ने दूर किया भ्रम

कोरोना वैक्सीन से बांझपन: काफी लंबे समय के इंतजार के बाद जब ठीक है की व्यवस्था हुई तो लोगों के मन में यह भ्रम फ़ैल गया कि कोरोना वैक्सीन से बांझपन की समस्या उत्पन्न हो जाएगी, जिसको लेकर देश के स्वास्थ्य मंत्री ने खुलासा किया है कि जैसा कि कई अन्य चीजों में होता है, ठीक भाई सा ही इसमें भी कुछ व्यक्तियों को साइड इफेक्ट जैसे हल्के बुखार और इंजेक्शन के स्थान पर हल्का दर्द हो सकता है|

इसके साथ ही शरीर में भी कुछ दर्द महसूस कर सकता है वह सबसे जिसके वैक्सीन लगाई जाएगी, हालांकि यह दुष्प्रभाव अस्थाई है मतलब यह जरूरी नहीं आएगी उपरोक्त बताइए समस्या 223 देने वाले व्यक्ति को उत्पन्न ही हो, वैसी लगने के कुछ दिनों बाद ही आपका स्वास्थ्य वैसा ही हो जाएगा जैसा कि पहले था|

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि देश में कोरोनावायरस वैक्सीनेशन अभियान की शुरुआत होने में आप थोड़ा ही समय बाकी है, लेकिन उससे पूर्व ही केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने टीकाकरण से जुड़े लोगों के अंदर कुछ भ्रमों को दूर करने के लिए, एक बयान जारी किया है, डॉ हर्षवर्धन ने इसके लिए ट्विटर का सहारा लेते हुए जानकारी दी है कि कोरोना टीका लेने के बाद संबंधित व्यक्ति को हल्के बुखार को कोरोना का लक्षण नहीं माना जाना चाहिए|

जानकारी देते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने बाइक सेन के साइड इफेक्ट पर उठने वाले सवालों के जवाब दिए, इस दौरान उन्होंने बताया कि देश भर में 2934 साइटो पर लगभग तीन लाख हेल्थ केयर को टीका लगाया जाएगा, केंद्र सरकार ने 200 प्रति डोज के हिसाब से कोविशील्ड की 1.1 करोड़ खुराकों को खरीदा है इसके अलावा 55 लाख कोवैक्सीन की खुराकें खरीदी गई हैं|

क्या पुरुषों और महिलाओं में कोरोना वैक्सीन से बांझपन का कारण बन सकता है? इस संबंध में डॉ हर्षवर्धन ने बताया कि यह बताने के लिए कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है कि कोरोनावायरस का टीका पुरुषों और महिलाओं में बांझपन का कारण हो सकता है, इसके साथ ही उन्होंने अपील की है कि कृपया कोविड-19 के बारे में सही जानकारी प्राप्त करने के लिए सरकार के संचार के केवल आधिकारिक माध्यमों पर ही भरोसा किया जाए और कई तरह की फ़ैल रहीं अफवाहों पर ध्यान देने से बचें|

आज 16 जनवरी से शुरू हो रहे इस महा अभियान के तहत सबसे पहले तीन लाख स्वास्थ्य कर्मियों को कोरोना वैक्सीन दी जाएगी, सूत्रों के मुताबिक पहले दिन तीन लाख स्वास्थ्य कर्मियों को कोरोनावायरस वैक्सीन 16 जनवरी के दिन देश भर में 2934 स्थानों पर लगाई जाएगी

जानकारी के मुताबिक आपको बता दें कि एक केंद्र पर एक टीकाकरण सत्र में औसतन 100 लोगों को ही टिका दिया जाएगा वहीं स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि राज्यों को सलाह दी गई है कि वे हर टीकाकरण सत्र में औसतन 100 लोगों को ही टीका दे, प्रत्येक साइट पर 1 दिन में अनुचित संख्या में वैक्सीन लगाने और हड़बड़ी न करने को लेकर राज्यों को सख्त निर्देश दिए गए हैं|

ये भी पढें: कृषि कानूनों का विरोध करते हुए किसानों को बीते 50 दिन, जानिए अब तक क्या क्या हुआ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here