मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना 2020 : 50 लाख से 2 करोड़ तक लोन

मध्यप्रदेश सरकार ने युवा कृषकों के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना का शुभारंभ किया था , इस सरकारी योजना में राज्य के युवा किसानों को 50 लाख से 2 करोड़ तक का लोन आवंटित किया जाता है ।

जैसा की हम सभी जानते है की किसानों को खेती कार्य में मुनाफा बहुत कम होता है और लोग ऐसी स्थिति में खेती कार्य छोड़ कर शहरों की तरफ अपनी आजीविका चलने के लिए पलायन कर रहे है । जिसके समाधान के लिए सरकार द्वारा इस योजना को लागू किया गया है ताकि किसान कृषक उद्यमी योजना के तहत लोन लेकर अपना खुद का कोई बिजनेस शुरू कर सके ।

इस आर्टिकल में हम आपको Mukhyamantri Krishak Udyami Yojana के बारे में सम्पूर्ण जानकारी विस्तार से प्रदान करेंगे .आइये जाने योजना की रूपरेखा , आवेदन प्रकिरिया के बारे में.

मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना 2020 : 50 लाख से 2 करोड़ तक लोन हेतु करे आवेदन

सन 2014 में मध्य प्रदेश सरकार द्वारा किसान के बेटे एवं बेटियों के लिए मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना शुरू की गई थी।

यह पढ़े : डीडीओ रिक्रूटमेंट 2020

इस योजना की शुरूआत के बाद 2017 में इसके अंदर कुछ संशोधन किया गया था और 2017 के बाद 23 अप्रैल 2018 को भी एक और संशोधन किया गया जो 2020 में अभी तक लागू है।

फिलहाल इस योजना के तहत मध्य प्रदेश के युवा किसान किसी बिजनेस हेतु ₹5000000 की राशि से लेकर 2 करोड रुपए तक की राशि ऋण स्वरूप बैंक से हासिल कर सकते हैं।

मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना मध्यप्रदेश के सभी जिलों एवं खेती किसानी करने वाले प्रत्येक व्यक्ति के लिए लागू है।

इस योजना का मुख्य उद्देश्य किसानों के बेटे एवं बेटियों द्वारा खुद के उद्योग को स्थापित करने के लिए बैंकों के माध्यम से ऋण उपलब्ध करवाना है।

ध्यान देने योग्य बात इसमें यह है कि इस योजना के तहत मिलने वाले ऋण की उपलब्धता कृषि आधारित एवं अनुषांगिक परियोजनाओं की प्राथमिकता रहेगी।

नीचे आपको किस योजना से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण बातें जैसे कि इस योजना के लिए आवेदन करने हेतु पात्रता , किस तरह का बिजनेस शुरू करना इसके अंतर्गत आता है , कितनी वित्तीय सहायता इस योजना के तहत प्रदान करवाई जाती है जैसी अन्य बातों को विस्तार से समझाया गया है।

किसान 50 लाख से लेकर 2 करोड़ तक की लोन राशि प्राप्त करने के लिए आवेदन कैसे करें ?

जो भी किसान पुत्र या पुत्री इस योजना के अंदर कोई बिजनेस शुरू करने के लिए लोन प्राप्त करना चाहती है उसे सर्वप्रथम मध्य प्रदेश सरकार द्वारा किए गए ऑनलाइन पोर्टल पर निर्धारित प्रपत्र 1 में पूछी गई सभी बातों का सही जवाब भरकर जिला व्यापार एवं उद्योग केंद्र में ऑनलाइन प्रस्तुत करना होगा।

आपको ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर सूक्ष्म , लघु और मध्यम उद्यम विभाग पर क्लिक करना होगा।

वहां पर आपको अपना नाम , ईमेल पता , फोन नंबर जैसी जानकारी उपलब्ध करवानी होगी और आपको आगे से साइन इन करने के लिए एक पासवर्ड भी सत्यापित करना होगा।

यह सब करने के बाद जब आप फॉर्म सबमिट करोगे तो आपको आपका एप्लीकेशन नंबर प्रदान करवा दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री उद्यमी योजना 2020 के तहत सभी प्राप्त आवेदनों को पंजीबद्ध करने के बाद आपके आवेदन के पूर्णिया अपूर्ण होने की सूचना 15 दिवस के अंदर आपके द्वारा दी गई ईमेल आईडी और फोन नंबर पर भेज दी जाएगी।

साइन अप करने के बाद आपको मुख्यमंत्री उद्यमी योजना के अंदर अपने फोन नंबर और पासवर्ड द्वारा लॉगइन करना होगा।

और उसके बाद आपको अपने बिजनेस हेतु डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट विस्तृत रूप से प्रतिवेदन करनी होगी और यदि आप 10 लाख से अधिक का ऋण प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको अपनी बिजनेस रिपोर्ट चार्टर्ड अकाउंटेंट द्वारा सत्यापित करवाने की आवश्यकता होगी।

मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना 2020 के तहत प्रदान करवाई जाने वाली वित्तीय सहायता की जानकारी

इस योजना के तहत आपको बिजनेस हेतु न्यूनतम लागत 50 लाख रूपये और अधिकतम 2 करोड़ रुपए की राशि आवंटित की जाएगी।

मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना 2020 के तहत फ्री योजना की पूंजीगत लागत पर मार्जिन मनी सहायता 15% जोकि अधिकतम 1200000 रुपए होता है और बीपीएल परिवार के लिए परियोजना के पूंजीगत लागत पर 20% जो कि अधिकतम ₹1800000 होता है वह सरकार द्वारा देय होगा।

इस योजना के अंतर्गत आपके बिजनेस की पूंजीगत लागत पर पुरुषों को 5% और महिलाओं को 6% की दर से अधिकतम 7 वर्ष तक ब्याज अनुदान देय होगा।

मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना हेतु पात्रता की जानकारी

  • सर्वप्रथम तो आवेदक मध्यप्रदेश का मूल निवासी होना चाहिए।
  • आवेदन करता कि कम से कम 10 वीं कक्षा उत्तीर्ण हो और आवेदन दिनांक को आवेदनकर्ता की न्यूनतम आयु 18 वर्ष और अधिकतम 45 वर्ष होनी चाहिए।
  • इस योजना के तहत जो भी बिजनेस शुरू करना चाहते हैं वह बिजनेस मध्य प्रदेश राज्य की सीमा में ही स्थापित होना चाहिए।
  • हालांकि इस योजना में आवेदन करने के लिए आए सीमा पर कोई बंधन नहीं है परंतु ध्यान रहे जो भी आवेदन करता है वह और उसके माता-पिता आयकर दाता नहीं होने चाहिए।
  • साथ में आवेदक करने वाले के परिवार का पहले से ही व्यापार क्षेत्र के अंदर कोई उद्योग स्थापित नहीं होना चाहिए।
  • जो भी आवेदन करता है वह और उसके माता-पिता द्वारा किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंक या वित्तीय संस्था या सहकारी बैंक में डिफाल्टर नहीं होना चाहिए।
  • यदि कोई व्यक्ति किसी शासकीय उद्यमी या स्वरोजगार योजना के अंतर्गत पहले से ही सहायता प्राप्त कर रहा है तो वह इस मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना में आवेदन करने के लिए पात्र नहीं होगा।
  • एक परिवार में इस योजना का लाभ केवल एक ही बार दिया जाएगा।

14 विभागों की सूची जो इस योजना के संचालन और बजट हेतु निर्धारित है

  1. सूक्ष्म , लघु और मध्यम उद्यम विभाग
  2. कुटीर एवं ग्रामोद्योग विभाग
  3. माटी कला बोर्ड
  4. हथकरघा और हस्तशिल्प निदेशालय
  5. मध्य प्रदेश सहकारी अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम
  6. जनजातीय कार्य विभाग आदिवासी वित्त एवं विकास निगम
  7. पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण विभाग
  8. पशुपालन विभाग
  9. पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग
  10. नगरीय विकास एवं आवास विभाग
  11. मछुआ कल्याण तथा मत्स्य पालन विभाग
  12. विमुक्त घुमक्कड़ एवं अर्द्ध घुमक्कड़ जनजाति कल्याण विभाग
  13. उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग
  14. किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग

मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना के तहत किसान पुत्र / पुत्री किस तरह का बिजनेस शुरू कर सकते हैं ?

युवा किसान मध्य प्रदेश सरकार द्वारा चलाई गई मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना के तहत उद्योग भी निर्माण सेवा एवं व्यवसाय से संबंधित निम्न प्रकार की कृषि आधारित परियोजनाओं या कहें बिजनेस को शुरू कर सकते हैं:-

  • एग्रो प्रोसेसिंग
  • फूड प्रोसेसिंग
  • कोल्ड स्टोरेज
  • मिल्क प्रोसेसिंग
  • टिशू कल्चर
  • दाल मिल
  • राइस मिल
  • फ्लोर मिल (आटा चक्की)
  • कस्टम हायरिंग सेंटर
  • पोल्ट्री फीड (मुर्गियों को दिए जाने वाला एक प्रकार का भोजन)
  • फिश फीड (मछलियों को दिए जाने वाला एक प्रकार का भोजन)
  • बेकरी
  • मसाला निर्माण उद्योग
  • सीड ग्रेडिंग आदि

यह पढ़े : सोलर पैनल सब्सिडी योजना में सिर्फ 5000 रूपये में पाएं सोलर सिस्टम और बचाएं बिजली।

मध्यप्रदेश सरकार की कृषक उद्यमी योजना का मुख्य उद्देश्य क्या है ?

मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना मध्यप्रदेश के युवा किसानों या कहे कृषक पुत्र एवं पुत्री द्वारा सम्यका उद्योग स्थापित करने हेतु बैंकों के माध्यम से ऋण उपलब्ध करवाना है।

युवा किसानों को मिल रही 50 लाख से लेकर 2 करोड़ की वित्तीय ऋण सहायता किस राज्य के किसानों के लिए है ?

कृषक उद्यमी योजना देश में मध्य प्रदेश राज्य के किसानों के लिए शुरू की गई है .

मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना का अंतिम बार संशोधन कब किया गया था ?

इस योजना अंतिम संशोधन 23 अप्रैल 2018 को किया गया था .

यह पढ़ें : उत्तरप्रदेश में मज़दूरों को मिलेगा मासिक भत्ता

मध्यप्रदेश सरकार द्वारा लागू की गई मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना 2020 से जुड़ी तमाम जानकारी हमने ऊपर देने का प्रयत्न किया है और यदि फिर भी आपकी कोई समस्या है या फिर कोई अधिक जानकारी आप चाहते हैं तो नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं।

Leave a Comment