क्या है डिटेंशन सेंटर जिसमें अवैध विदेशी नागरिकों को रखा जाता है

नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के बाद क्या है डिटेंशन सेंटर के ऊपर चर्चा तेज हो गई|

जिसको लेकर विपक्ष मोदी सरकार पर हमला बोल रही है|

क्या होता है डिटेंशन सेंटर जिसने अवैध विदेशी नागरिकों को रखा जाता है

  • डिटेंशन सेंटर जो कि एक हिरासत केंद्र होता है |जिसमें बाहर से आए
  • अवैध विदेशी नागरिकों को रखा जाता है जिनके पास भारत की नागरिकता नहीं है |
  • और डिटेंशन सेंटर पर ऐसे नागरिकों को रखा जाता है जो कि भारत में रह रहे हैं|
  • और बिना नागरिकता के पकड़े जाने पर मिलते हैं जब से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और
  • गृह मंत्री अमित शाह ने डिटेंशन सेंटर के बारे में बोला है|
  • तब से लोगों के मन में खासकर अल्पसंख्यकों के मन में डर बना हुआ है की डिटेंशन सेंटर क्या होता है |
  • और कहां पर है इससे पहले गृहमंत्री अमित शाह ने एक इंटरव्यू में बोला था|
  • कि डिटेंशन सेंटर देश के बाहर बनाया जाता है |
  • जिसमें देश से बाहर निकाले जाने के बाद लोगों को इसके अंदर रखा जाता है जो कि एक प्रक्रिया है|

कहां पर बना है Detention Center जिसमें विदेशी अवैध नागरिकों को रखा जाता है

भारत में डिटेंशन सेंटर अवैध विदेशी नागरिकों के लिए बनाया जाता है जो कि,

एक ठिकाना होता है भारत के डी फॉरेनर्स एक्ट के तहत इस डिटेंशन सेंटर को बनाया जाता है |

और इस एक्ट के तहत केंद्र सरकार को यह अधिकार है कि,

वह देश से किसी भी विदेशी नागरिक बाहर निकाल सकती है|

ALSO READ :- Jharkhand Assembly Election 2019 : हेमंत सोरेन मुख्यमंत्री

और बाहर निकालने के बाद उन विदेशी नागरिकों को इसी डिटेंशन सेंटर में रखा जाता है |

डिटेंशन सेंटर में ऐसे लोगों को रखा जाता है जिनके पास देश के,

नागरिक होने के कागजात नहीं होते हैं और फिर उनको उनके देश वापस भेज दिया जाता है |

डिटेंशन सेंटर भारत के असम राज्य के गोपालापुर में स्थित है जो कि ,

पिछले 1 साल से बन रहा है इस डिटेंशन सेंटर को बनाने के लिए सरकार ने लगभग 46 करोड रुपए खर्च किए हैं |

इस डिटेंशन सेंटर को 31 दिसंबर 2019 तक बनकर तैयार होना है|

Comments are closed.