महाराष्ट्र में सरकार बनाने का सियासी घमासान, शिवसेना ने खटखटाया कोर्ट का दरवाजा।

सरकार बनाने को लेकर महाराष्ट्र  में घमासान बन चुका है और महाराष्ट्र पर अब पता नहीं क्या होने वाला है। लेकिन देवेंद्र फडणवीस के सीएम शपथ लेने के बाद शिवसेना ने कोर्ट का दरवाजा सरकला दिया है।

महाराष्ट्र में सरकार बनाने का सियासी घमासान, शिवसेना ने खटखटाया कोर्ट का दरवाजा।

  • MAHARSTRA  में सरकार के गठन का मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया है।
  • MAHARSTRA में याचिका दाखिल करने पहुंची शिवसेना ने अपनी याचिका की मांग की है।
  • राज्यपाल के उस आदेश को रद्द कर दिया जाए
  • जिसमें राज्यपाल ने देवेंद्र फड़नीस को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया याचिका में कहा गया।
  • कि राज्यपाल का फैसला असंवैधानिक मनमाना गैरकानूनी और समानता के अधिकार का उल्लंघन है।
  • याचिका पर सुप्रीम कोर्ट आज सुनवाई करेगा। शिवसेना ने यह मांग भी की है।

READ ALSO ; महाराष्ट्र में सरकार बनने के बाद कांग्रेस तथा शिव सेना भड़की

  • कि सुप्रीम कोर्ट राज्यपाल को एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना के गठबंधन को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करने का आदेश दे।
  • दावा किया गया है कि उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में गठबंधन के पास 144 से ज्यादा विधायकों का समर्थन है।
  • याचिका के साथ ही लगाई एक अर्जी में तीनों पार्टियों ने 288 सदस्यीय सदन में 154 विधायकों के समर्थन का दावा किया है।
  • और  सुप्रीम कोर्ट से अनुरोध किया है। कि ;कोर्ट तुंरत रविवार को विधानसभा का स्पेशल सत्र बुलाकर फ्लोर टेस्ट का निर्देश दे
  • ताकि साफ हो सके कि बहुमत उद्धव ठाकरे के पास है।
  • या देवेंद्र फडणवीस के पास. अर्जी में कहा गया है। कि; कर्नाटक मामले की तरह महाराष्ट्र के राज्यपाल से देवेंद्र फडणवीस को निमंत्रण देने और राज्यपाल को दिए गए
  • समर्थन पत्र समेत सारा रिकॉर्ड अदालत के सामने रखा जाए.
  • प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति पर तुरंत फ्लोर टेस्ट हो और इसकी वीडियोग्राफी हो. फ्लोर टेस्ट डिवीजन ऑफ वोट के जरिए हो।

तीनों पार्टियों ने सुप्रीम कोर्ट से जल्द सुनवाई की मांग की. कोर्ट इस मामले पर कल सुनवाई करेगा.

महाराष्ट्र (Maharashtra) में जारी उठापटक के बीच शनिवार को बड़ा उलटफेर हुआ और बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने दोबारा सीएम पद की शपथ ले ली। उनके साथ आए ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ले ली। सुबह करीब आठ बजे राजभवन में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने दोनों नेताओं को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। जबकि शुक्रवार को शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस की बैठक में तीनों दलों ने गठबंधन सरकार बनाने का फैसला ले लिया था।