Nirbhaya Case Live: सुप्रीम कोर्ट में वकील बोले दोषियों को सजा 1:00 बजे आएगा अंतिम फैसला

Nirbhaya Case Live दिल्ली में हुए निर्भया कांड में कुल 6 दोषी शामिल थे जिसमें से एक दोषी नाबालिग होने की वजह से सुप्रीम कोर्ट द्वारा आए गए फैसले के तहत उसे बरी कर दिया गया था तथा एक दोषी रामसिंह जो तिहाड़ जेल में ही खुद को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली

Nirbhaya Case Live: सुप्रीम कोर्ट में वकील बोले दोषियों को जल्द से जल्द ही जाए सजा 1:00 बजे आएगा अंतिम फैसला

निर्भया केस के कुल 4 दोस्ती जो अभी भी तिहाड़ जेल में बंद है उनमें से एक अक्षय ठाकुर ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई है जिसकी सुनवाई पूरी हो गई जस्टिस भानुमति की अध्यक्षता में इस मामले की सुनवाई की गई. एक मामले की सुनवाई में भानुमति के साथ अशोक भूषण तथा बोपन्ना शामिल थे सुनवाई में अक्षय को दोषी करार दिया तथा वकील ने कहा कि दोषी अक्षय को जल्द से जल्द फांसी पर लटकाया जाए

ताकि भविष्य में ऐसे कोई कांड ना हो और दोषियों के मन में एक भाई पैदा हो अक्षय के वकील ने कहा कि अक्षय को फांसी इसलिए दी जा रही है क्योंकि वह गरीब है साथ ही वकील ने जांच पर भी सवाल उठाए अक्षय के वकील के खिलाफ निर्भया के वकील ने अपना बयान दिया बोले कि दोषी किसी भी क्षमा याचिका के हकदार नहीं है इन्हें तुरंत फांसी पर चढ़ा देना चाहिए तमाम मुद्दों पर बहस हो चुकी है अंतिम फैसला सुप्रीम कोर्ट द्वारा 1:00 बजे आ जाएगा

READ ALSO ; भारत और वेस्टइंडीज का दूसरा वनडे मैच; यह होगा निर्णायक मुकाबला

मामले की सुनवाई जारी 3 जजों की बेंच करेगी फैसला

  • Nirbhaya Case Live तीन जजों की बैंक इस मामले की सुनवाई कर रही है
  • अब देखना यह होगा कि दोषी को फांसी मिलेगी या रह मिलेगी
  • सुप्रीम कोर्ट ने भी इस बात का खुलासा पहले भी कर दिया है
  • कि दोषी माफ करने योग्य नहीं है उन्हें अवश्य फांसी दी जाएगी
  • निर्भया केस की पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई में शुरुआत में वकील तुषार मेहता ने बहस शुरू की
  • और कहा कि पुनर्विचार याचिका को बिना समय गवाएं खारिज किया जाना चाहिए
  • इस मामले में निचली अदालत हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट को; इस याचिका को खारिज करके दोषियों को जल्द से जल्द सजा दी जानी चाहिए
  • तुषार मेहता ने कहा कि यह मामला ऐसा है
  • कि इसमें फांसी देना अनिवार्य है क्योंकि यह मानवता के खिलाफ हमला था
  • और उन्होंने कहा कि इस केस को बिना देरी गवाएं यही अंत किया जाए
  • और चारों दोषियों की पुनर्विचार याचिका को खारिज करके उन्हें फांसी की सजा सुना दी जाए

इस केस का अंतिम फैसला आज बुधवार 1:00 बजे सुप्रीम कोर्ट द्वारा आएगा