निर्भया कांड के दोषी विनय शर्मा की दया याचिका खारिज

16 दिसंबर 2012 को दिल्ली में पैरामेडिकल स्टूडेंट के साथ हुए  निर्भया कांड गैंगरेप के चारों आरोपियों में से एक आरोपी विनय शर्मा ने राष्ट्रपति से दया याचिका की मांग की थी ! जोकि गृह मंत्रालय ने राष्ट्रपति के पास दया याचिका को भेज दी गई है !

निर्भया कांड के दोषी विनय शर्मा की दया याचिका खारिज

गृह मंत्रालय ने राष्ट्रपति से दया याचिका को खारिज करने की अपील की है! इससे पहले दिल्ली सरकार के गृह मंत्रालय विनय शर्मा की दया याचिका को खारिज करने की अपील दिल्ली के राज्यपाल से की थी राज्यपाल ने दया याचिका को खारिज कर दी थी ! दया याचिका को खारिज करने के बाद फाइल को केंद्र सरकार के गृह मंत्रालय के लिए भेज दिया था ! और अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि हमने आरोपियों के दया याचिका को खारिज कर दिया है! राष्ट्रपति के पास भेज दिया है अब इस पर फैसला राष्ट्रपति लेंगे!

2017 में ही सुप्रीम कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई थी

(1) निर्भया कांड सबसे पहले आरोपियों को हाई कोर्ट के द्वारा सुनाई गई थी फांसी की सजा !
(2) चारों आरोपी मुकेश अक्षय विनय पवन ने सुप्रीम कोर्ट में अपनी याचिका दायर की थी!
(3) सुप्रीम कोर्ट ने याचिका को खारिज करते हुए कहा था कि ऐसे जघन्य अपराधों की क्षमा नहीं होती है!
(4) और चारों आरोपियों को फांसी की सजा सुनाई थी!

READ ALSO ; निर्भया हत्याकांड के आरोपियों को सजा दिलाने के लिए स्वाती मालीवाल ने राष्ट्रपति को भेजा नोटिस

  •  सुप्रीम कोर्ट से फांसी की सजा मिलने के बाद चारों आरोपियों में से; एक आरोपी विनय शर्मा ने राष्ट्रपति से दया याचिका की मांग की थी!
  • 16 दिसंबर 2012 की रात को गैंग रेप करने वाले ;पांचो आरोपियों मैं से एक आरोपी को नाबालिक होने के कारण बाल सुधार गृह में भेज दिया था
  • उसके बाद आरोपी को कोर्ट ने 3 साल की सजा सुनाई थी
  • सजा पूरी होने के बाद आरोपी को बिना किसी पहचान के छोड़ दिया गया था
  •  चारों आरोपियों को 2017 में फांसी की सजा सुनाई जाने के बाद तीन आरोपी ने दया याचिका डालने से मना कर दिया था !
  • लेकिन एक आरोपी विनय शर्मा ने दया याचिका डालते हुए राष्ट्रपति को उनकी सजा कम करने का अनुरोध किया था!

गृह मंत्रालय के द्वारा दया याचिका खारिज करने की अपील करने के बाद गृह मंत्रालय ने फाइल को राष्ट्रपति के पास भेज दिया है और याचिका खारिज करने की अपील की है””