कश्मीर पर पाकिस्तान को एक बार फिर बड़ा जटका , अमेरिका ने कश्मीर मुद्दे पर बात करने से मना किया

दोस्तों धारा 370 हटाने के बाद अब कश्मीर में काफी शांति देखने को मिल रही है| कश्मीर की इस शांति को देखकर पाकिस्तान काफी परेशान है |धारा 370 हटाने से लेकर पाकिस्तान लगातार बहुत प्रयास कर रहा है|

कश्मीर पर पाकिस्तान को एक बार फिर बड़ा जटका , अमेरिका ने कश्मीर मुद्दे पर बात करने से मना किया

कश्मीर मूदे पर कोई भी देश पाकिसातन का साथ नहीं दे रहा है |अब एक बार और पाकिस्तान को दोहरा जटका लगा है| कश्मीर और आतंक के मुद्दों पर पाकिस्थान को दोहरा जटका लगा लगा हैं| एक तरफ usa परिषद् ने साफ़ कर दिया है| की कश्मीर के मूदे पर कोई चर्चा नहीं होगी| तथा अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने अपनी रिपोर्ट में साफ़ कह दिया| की पाकिस्थान में आतंकी संगठन जैश ए मोहमद और लश्कर ए मोहमद पर धन उगाही और आतंकियों की भर्ती अभी भी लगातार हो रही है लेकिन पाकिस्तान कोई भी रोक नहीं लगा रहा हैं।


नवंबर महीने की सुरक्षा परिषद् की करेनं ने firday को प्रेस वार्ता में पूछे गए सवाल में सप्षट कहा है| की दुनिया मई कही मसले है|उन पर बात करना जरुरी है कश्मीर पर कोई बात हुई होगी सुरक्षा परिषद् को अगस्त में उस पर चर्चा करने का मौका मिला था| जिसे पाकिस्तान ने गवा दिया।

 

Read alsoफिर से भारत-पाक आमने-सामने. बॉर्डर पर नहीं स्टेडियम में, जानिए पूरी खबर.

जम्मू कश्मीर और लद्दाख का नक्शा जारी किया

  • धारा 370 हटाने के बाद भारत सरकार ने जम्मू और कश्मीर को तथा लद्दाक को केंद्र शासित प्रदेश बना दिया|
  • अभी कुछ दिन पहले एक सर्वे में जम्मू कश्मीर की स्थिती सामान्य देखते हुए जम्मू और कश्मीर तथा लद्दाक का नक्शा जारी किया है|
  • केंद्र सरकार ने शनिवार को नए केंद्र प्रशासित प्रदेशो का नक्शा राजनीतिक नक्शा जारी किया है|
  • इसमें पाक के कब्जे वाले कश्मीर के मीरपुर और मुजफ्फराबाद जिले को जम्मू कश्मीर में शामिल किया है|

चेतावनी के बावजूद भी नहीं मान रहा पाकिस्तान ; अमेरिका

  • पाकिस्तान आतंकी संगठन को रोकने में नाकाम रहा है|
  • अमेरिकी विदेश विभाग द्वारा शुक्रवार को संसद के प्रस्ताव पर पेश की गयी रिपोर्ट में बताया गया|
  • की साल 2018 में दी गयी; चेतावनी के बावजूद भी पाकिस्तान अपनी आतंकी गतिविथियो का सञ्चालन अभी भी कर रहा है|
  • पाक सरकार और तालिबान में राजनितिक सुलह को समर्थन देने की बात भी कहि
  • लेकिन पाकिस्तान में चल रहे| आतंकी समूहों और isi नेटवर्क को रोकने के लिए कोई कदम नहीं उठाया गया है|
  • रिपोर्ट मे यह बात भी स्पष्ट कहि है की; पाक में आतंकी संगठन के लोग खुले आम काम कर रहे है|
  • लेकिन पाकिस्तान किसी भी तरह का रोकने का प्रयास नहीं कर रहा है|