CoronaVirus vaccine: वैक्सीन 12 वर्ष के बच्चे और नए कोरोना म्यूटेंट, दोनों पर प्रभावी, फ़ाइजर

3
32
CoronaVirus Vaccine
GUAYAQUIL, ECUADOR - MAY 26: A health worker prepares a dose of the Pfizer Biontech vaccine during a vaccination for senior citizens on May 26, 2021 in Guayaquil, Ecuador. (Photo by Gerardo Menoscal/Agencia Press South/Getty Images)

सरकार की कोशिश है कि वर्ष 2021 के अंत तक भारत की पूरी आबादी का टीकाकरण कर दिया जाए। विदेशी कम्पनियों से भी वैक्सीन (CoronaVirus Vaccine) मंगवाइ जा रही है। हाल ही में फ़ाइजर ने अपनी वैक्सीन को भारत में अनुमति दिलवाने के लिए बहुत ही अच्छा और प्रभावी तर्क सरकार के आगे रखा है। फ़ाइजर ने भारत सरकार को कहा है कि, हमारी वैक्सीन कोरोना वायरस के नए म्यूटेंट के साथ साथ 12 वर्ष की आयु के बच्चों पर भी प्रभावी है। अभी तक भारत मे केवल 18 वर्ष की आयु से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए वैक्सीन मौजूद है।

विश्व के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान में अब तक केवल 18 वर्ष की आयु से ज्यादा उम्र वाले लोगों को ही वैक्सीन लगायी जा रही है। साथ ही, भारत के कुछ राज्यों में वैक्सीन की कमी भी देखने को मिल रही है। सरकार बहुत सी विदेशी कम्पनियों से भी वैक्सीन खरीद रही है ताकि वैक्सीन की कमी को दूर किया जा सके। परिणाम स्वरूप बहुत सी विदेशी कम्पनियों ने भारत को वैक्सीन देने में काफी दिलचस्पी भी दिखाई है। 

हाल ही में फ़ाइजर ने अपनी वैक्सीन के लिए फास्ट-ट्रैक अनुमति की मांग करते हुए, भारतीय अधिकारियों से कहा है भारत में प्रचलित SARS-CoV-2 म्यूटेंट के खिलाफ उनकी वैक्सीन ने “उच्च प्रभावशीलता” दिखाई है, और साथ ही यह वैक्सीन  12 वर्ष की आयु के बच्चों के लिए भी उपयुक्त है।

इस वैक्सीन को एक महीने के लिए 2-8 डिग्री पर स्टोर भी किया जा सकता है।  इसके साथ ही, फाइजर  इस साल जुलाई और अक्टूबर के बीच भारत को 5 करोड़ वैक्सीन प्रदान करने के लिए तैयार है । विश्व स्वास्थ्य संगठन (W.H.O.) ने भी इस वैक्सीन को प्रभावी बताया है।

हाल ही में फाइजर के अध्यक्ष और सीईओ, अल्बर्ट बोरला(Albert Borla) और भारत सरकार के बीच बहुत सी बैठकों का सिलसिला चला था। इन बैठकों के बाद निर्णय लिया गया है कि, दोनों पक्ष कंपनी की वैक्सीन को जल्द से जल्द भारत में उपलब्ध करवाने के लिए एक साथ काम करेंगे। 

जनवरी में शुरू हुए टीकाकरण अभियान के बाद से भारत अब तक कुल 20 करोड़ से अधिक वैक्सीनों की व्यवस्था कर चुका है। भारत को अपनी पूरी आबादी का टीकाकरण करने के लिए अभी बहुत लम्बा रास्ता तय करना है। फिलहाल बहुत से राज्यों से लगातार वैक्सीन कमी की शिकायत आ रही है, जो इस वक़्त भारत सरकार के सामने सबसे बड़ी चुनौती है।  

यह भी पढें:

https://indnewstv.com/google-launches-educational-coronavirus-website-www-google-com-covid19/