राजस्थान पंचायत चुनाव 2020 : ग्राम पंचायत चुनाव में अब EVM का इस्तेमाल होगा ।

राजस्थान पंचायत चुनाव 2020 में ग्राम पंचायत चुनाव के लिए ईवीएम मशीन का उपयोग लिया जाएगा। इस चुनाव के अंदर EVM के जरिए मतदान होगा।

राजस्थान पंचायत चुनाव 2020 : ग्राम पंचायत चुनाव में अब EVM का इस्तेमाल होगा ।

जयपुर। INDnewsTv :- राजस्थान के अंदर पंचायत राज संस्थाओं ( राजस्थान पंचायत चुनाव 2020 ) के चुनाव होने वाले हैं। तो इसी बीच एक और नई खबर सामने आई है। कि अबकी बार पंचायती राज चुनाव EVM के द्वारा किया जाएगा। यह चुनाव फरवरी के अंदर होने वाला है। और इस चुनाव में राजस्थान की सभी पंचायतों में सरपंच को चुनने के लिए किया जाएगा। इसलिए विधानसभा और लोकसभा के चुनाव की तरह इस चुनाव में भी ईवीएम का इस्तेमाल किया जाएगा।

राजस्थान पंचायत चुनाव 2020 के लिए EVM की सुविधा

चुनाव आयोग ने राजस्थान पंचायत चुनाव 2020 के लिए बिहार, महाराष्ट्र से ईवीएम उधार लाने की बात कही है। महाराष्ट्र, ओडिशा व बिहार से 1.10 लाख ईवीएम उधार मंगवाई हैं, जिन्हें लाने-लेजाने में 15 करोड़ रुपए खर्चे हैं। ज्यादातर जिलों में ईवीएम आ चुकी हैं और 12-13 दिसम्बर तक सभी मेें ईवीएम पहुंच जाएंगी। सूत्रों के अनुसार आयोग जिला परिषद, पंचायत समिति सदस्य सहित सरपंच पदों के चुनाव भी ईवीएम से करवाने की तैयारी कर रहा था। मशीनें खराब होने पर पंच व सरपंच के चुनाव में मतपत्र काम में लिए जाएंगे।

Read also :- झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 : तीसरे चरण की वोटिंग सुबह 7:00 बजे से शुरू हुई

तीन चरणों में होंगे चुनाव

पिछले पंचायत चुनाव की तरह इस बार भी चुनाव आयोग सीन चरणों में चुनाव करने की तैयारी कर रहा है इसके लिए चुनाव का कार्यक्रम जारी कर जनता इसी महीने लगाने की बात हो रही है

22 तक निकलेगी लॉटरी

  • पंचायत राज संस्थाओं में पदों के आरक्षण की लॉटरी 22 दिसम्बर तक निकालनी है।
  • पुनर्गठन व मतदाता सूचियों के प्रारूप प्रकाशन सहित मतदाता सूचियों में
  • नाम जुड़वाने-हटाने की प्रक्रिया चल रही है।
  • जयपुर जिले में वार्डपंच व सरपंच की सीटों का आरक्षण एसडीओ निर्धारित करेंगे।
  • जिला परिषद और पंचायत समिति सदस्यों व प्रधानों की सीटों की लॉटरी जिला कलक्टर निकालेंगे।
  • सूत्रों के अनुसार अब तक आई ईवीएम जांची तो 20 प्रतिशत खराब मिलीं।
  • आधिकारिक तौर पर 13 दिसम्बर के बाद आयोग ईवीएम की प्रथम स्तरीय जांच का कार्यक्रम जारी करेगा।
  • जांच के बाद सभी जिलों से आयोग को जानकारी भेजी जाएगी।
  • मशीनों की उपलब्धता के अनुसार चुनाव कार्यक्रम तय किया जाएगा।