Home पॉपुलर विक्रम लेंंडर का मलबा : नासा ने विक्रम लेंडर का मलबा...

विक्रम लेंंडर का मलबा : नासा ने विक्रम लेंडर का मलबा ढुँढ लिया। 

0
विक्रम लेंंडर का मलबा : नासा ने विक्रम लेंडर का मलबा ढुँढ लिया। 
IMAGE : विक्रम लेंंडर का मलबा : नासा ने विक्रम लेंडर का मलबा ढुँढ लिया। 

विक्रम लेंंडर का मलबा : चेन्नई के इंजीनियर ने नासा विक्रम लेंडर का मलबा ढुँढ लिया। मिशन चंद्रयान 2 के अंदर विक्रम लेंडर की खोज हो चुकी है। अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा ने विक्रम लैंडर का मलबा ढूंढ लिया है।

विक्रम लेंंडर का मलबा : चेन्नई के मैकेनिकल इंजीनियर की  मदद से नासा ने विक्रम लेंडर का मलबा ढुँढ लिया।

  • अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISSRO) के सबसे बड़े मिशन चंद्रयान 2 लेंडर
  • विक्रम का मलबा आखिर ढूंढ लिया गया है। अमेरिकी स्पेस एजेंसी NASA
  • अपने ऑर्बिटर की मदद से चांद की सतह पर विक्रम लेंटर का मलबा तलाशा है।
  • chandrayaan-2 के विक्रम लेंटर का मलबा क्रैश साइड से 750 मीटर दूर तीन टुकड़ों
  • में मिला है नासा ने विक्रम का मलबा ढूंढने का क्रेडिट चेन्नई के एक मैकेनिकल इंजीनियर
  • शनमुगा सुब्रमण्यम को दिया
  • शानमुगा ने नासा को इसके लिए सूचित किया और कुछ समय में नासा ने इसे पुष्ट
  • कर दिया। नासा ने शानमुगा के इस सहयोगा के लिए उन्हें शुक्रिया कहते हुए उनकी
  • तारीफ की है।शानमुगा सुब्रमण्यन उर्फ शान मकैनिकल इंजिनियर और कंप्यूटर
  • प्रोग्रामर हैं। फिलहाल वह चेन्नै में ही लेनॉक्स इंडिया टेक्नॉलजी सेंटर में टेक्निकल
  • आर्किटेक्ट के तौर पर काम कर रहे हैं। 7 सितंबर 2019 को हुई विक्रर लैंडर की
  • चांद पर हुई हार्ड लैंडिंग के इस पहलू की खोज करके शान ने बड़ा योगदान दिया है।
  • शान मदुरै के रहने वाले हैं और इससे पहले कॉन्निजेंट जैसी कंपनियों में भी काम कर चुके हैं।
  • विक्रम लैंडर के मलबे के बारे में पता लगाने के लिए शान ने नासा के लूनर रेकॉन्सेन्स
  • ऑर्बिटर (एलआरओ) द्वारा ली गई तस्वीरों पर काम किया।
  • ये तस्वीरें 17 सितंबर, 14, 15 अक्टूबर और 11 नवंबर को ली गई थीं।

ALSO READ:- रेप केस भारत में : हर 15 मिनट में होता है एक रेप केस दर्ज

शान ने अपनी इस खोज के बाद इस बारे में नासा को भी बताया।

नासा ने कुछ समय में

शान की खोज की पुष्टि भी कर दी। उनकी खोज की पुष्टि करते हुए नासा के डेप्युटी प्रॉजेक्ट

साइंटिस्ट (एलआरओ मिशन) जॉन केलर ने शान को लिखा, ‘विक्रम लैंडर के मलबे की खोज

के संबंध में आपके ईमेल के लिए शुक्रिया। एलआओसी टीम ने कंफर्म किया है कि बताई गई

लोकेशन पर लैंडिंग से पहले और बाद में बदलाव दिख रहा है। इसी जानकारी का इस्तेमाल

करते हुए एलआरओसी टीम ने उसी इलाके में और खोजबीन तो प्राइमरी इंपैक्ट वाली जगल

के साथ मलबा भी मिला। नासा और एएसयू ने इस बारे में घोषणा के साथ-साथ आपको क्रेडिट भी दिया है।’

DMCA.com Protection Status