World Environment Day 2021: पर्यावरण को क्षति, भविष्य के लिए बड़ी चुनौती।

1
74
World Environment Day
Sand Artist gives final touches to sand sculpture of an elephant, representing the recently killed wild pregnant elephant of Kerala, with the message 'Save Wildlife Save Environment', on the eve of World Environment Day, in Pushkar, Rajasthan, India on June 4, 2020. (Photo by Himanshu Sharma/NurPhoto via Getty Images)

पूरी दुनिया में आज World Environment Day मनाया जा रहा है। हमें वाकई पर्यावरण संरक्षण पर ध्यान देने की जरूरत है। अगर हमने पर्यावरण से जुड़ी समस्याओं का समाधान नहीं किया तो आने वाली पीढ़ियों को काफी कुछ भुगतना पड़ सकता है।

5 जून, संपूर्ण विश्व में World Environment Day के रूप में मनाया जाता है। पर्यावरण को होने वाली क्षति और उस क्षति के कारण आए हुए परिवर्तन यह बताते हैं, कि केवल Environment Day के दिन ही नहीं बल्कि हमें हर दिन पर्यावरण का ख्याल रखना चाहिए। इस बार World Environment Day की थीम Ecosystem Restoration है।

आखिर, भारत में प्रदूषण कितना बड़ा खतरा है?

अल जजीरा की एक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया के 22 सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर भारत में है। यह जानकर आपको आश्चर्य होगा, कि विश्व में वायु प्रदूषण के कारण सबसे अधिक लोगों की मृत्यु, भारत में होती है। यह संख्या आतंकी हमलों में जान गंवाने वाले लोगों की संख्या से भी कहीं अधिक है। पर्यावरण में प्रदूषण कम करने के लिए हम सभी को एक अहम भूमिका निभाने की आवश्यकता है।

मात्र कुछ सालों में हम पर्यावरण को कर चुके हैं इतना क्षतिग्रस्त:

पिछले वर्ष अमेजन के जंगलों का 5.4 मिलियन एकड़ बड़ा इलाका आग (Amazon Forest Fire) में जलकर राख हो गया था। ब्राजील, और पैराग्वे के शहर धुआ धुआ हो चुके थे। अमेजन के जंगलों में आग लगने के कारण कार्बन के उत्सर्जन में अचानक से बहुत अधिक वृद्धि हो गई थी। जंगल जलने के साथ ही प्रकृति की कई सारी अमूल्य संपदा भी नष्ट हो गई थी।

ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगने वाली आग, सबसे ज्यादा जंगली जीवों को तबाह करने वाली आपदा थी। 300 करोड़ से अधिक जंगली जीव घायल और मृत हो गए थे।

World Environment day पर जानें प्रदूषण कम करने में आपकी भूमिका:

इंजन वाली गाड़ियों का इस्तेमाल कम से कम करें। विश्व में कई देशों की सरकारें इस कारण से इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा दे रही हैं। लकड़ियों का जलना, प्लास्टिक का जलना, त्योहारों पर और खुशी के मौके पर आतिशबाजी करना, इन सारी छोटे-छोटे हरकतों को रोककर हम प्रदूषण को बहुत हद तक कम कर सकते हैं। प्रदूषण की वजह से ओजोन लेयर क्षीण हो रही है जिससे सूर्य के द्वारा हानिकारक किरणें, धरती पर प्रवेश कर जाएंगी। यह संपूर्ण मानवता के लिए बहुत ही चिंता का विषय है।

World Environment Day के मूल्यों को केवल शब्दों में नहीं बल्कि अपने आम जीवन में हर दिन अमल करने की आवश्यकता है।

यह भी पढ़ें: Avian Influenza: चीन में सामने आया नया वायरस, क्या कोरोना के बाद आएगी एक और महामारी ?

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here